फ़सल अवशेष : मिट्टी की उर्वरता को खोने से बचाने के लिये किसानों को जागरूक होना होगा



  सरकार की ओर से पर्यावरण को सुरक्षित रखने साथ ही मिट्टी की उर्वरता को खोने से बचाने के लिए किसानों को फ़सल अवशेष न जलाने की हिदायत एक सराहनीय और  महत्त्वपूर्ण क़दम है। किसानों को अब जागरूक होने की अति आवश्कता है अन्यथा आने वाली पीढ़ी उनके इस कृत से अभिशापित हो जायेगी। सरकार को ग्रामीण स्तर पर जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से किसानों को जागरूक करना होगा साथ ही फ़सल अवशेष से वानस्पतिक खाद बनाना सुझाना होगा। इससे किसानों को आम के आम और गुठलियों के भी दाम प्राप्त होंगे।

* प्रति ग्राम मिट्टी में 10 से 40 लाख उपयोगी बैक्टीरिया तथा अन्य एनपीके तत्त्व प्राप्त मात्रा में मौजूद होते हैं जो जल के ख़ाक हो जाते हैं। 
  
  !! शुक्रिया भारत !!






Comments

Popular posts from this blog

अतिरंजीखेड़ा के विस्तृत भू-भाग में फ़ैले पुरातात्विक अवशेष ईंट और टेरकोटा के टुकड़े गवाह हैं अपने इतिहास और रंज के

भरतकूप : भगवान भरत के कुएँ की पौराणिक नगरी और बुंदेलों का ऐतिहासिक स्थल